Wednesday, 5 December 2018

जावा बाइक की हिस्ट्री | JAWA BIKES HISTORY IN HINDI





History of JAWA BIKES|JAWA BIKES का इतिहास

Jawa bikes ke founder चेक रिपब्लिक के francic janicek थे। मैकेनिक्स के ग्रेजुएट जैनेसक ने 1929 में German manufacture company ""Wanderer"" को खरीद लिया और फिर इस कंपनी में बाइकों का निर्माण शुरु किया। फ्रैंसिक ने अपने उपनाम Janicek और कंपनी के नाम Wanderer के शुरुआती दो-दो शब्दों को जोड़कर बाइक का नाम JAWA रखा। 1960 के दशक में ये bike पूरे विश्व में धूम मचाने के बाद bharat पहुंची। जहां maisoor में इसकी पहली फैक्ट्री स्थापित की गई।


Jawa bike ka itihas|yezdi bika ka itihas 

60-70 के दशक में कंपनी ने Yezdi के नाम से बाइकें भारत में बेंची। हालांकि साल 1996 में भारत में घाटे के चलते Yezdi का निर्माण बंद कर दिया।अब बीते माह एक बार फिर jawa bikes bharat में लॉन्च की गई हैं। जिनमें से jawa bike को थोड़े-बहुत बदलाव के साथ ही पारंपरिक look और design में ही launch किया गया है। इस bike में 250cc का engine दिया गया है। यह bike फिलहाल बिक्री(selling) के लिए उपलब्ध है। वहीं दूसरी तरफ jawa perak एक custom based bike है, जिसे एक पॉवरफुल और आकर्षक लुक दिया गया है। 300cc की यह bike भी कंपनी की एक पुरानी बाइक Jawa 250 Perak Bobber का ही नया रुप है।


Jawa bike in india|royal Enfield's vs jawa bike comparison 

बता दें कि Perak नाम भी cheak republic के एक एंटी-फासिस्ट hero perak के नाम से ही प्रेरित है।jawa 42 की बात करें तो इसका नाम भी एक मशहूर किताब Hitchhikers guide to the galaxy की एक कहानी से लिया गया है। ताकत की बात करें तो इस bike को 300 cc के petrol engine से लैस किया गया है और looks के मामले में इसे बेहतरीन बनाया गया है।खासकर colour variant के मामले में भी यह bike काफी पसंद की जा सकती है। बता दें कि jawa और jawa 42 बिक्री के लिए उपलब्ध हैं। वहीं जावा पेराक के अगले साल फरवरी तक bharat में launch होने की उम्मीद है।

Tags-

No comments:

Post a Comment