Sona Banane Ki Vidhi Hindi me|Sona Kaise Banaye



क्या सचमुच कोई Sona banane ki vidhi hai? कहते हैं प्राचीन भारत के लोग पारद आदि को किसी विशेष मिश्रण में मिलाकर Sona bana lete the,लेकिन क्या यह सच है? यह आज भी एक रहस्य है।

कहा जाता है कि नागार्जुन द्वारा लिखित बहुत ही चर्चित ग्रंथ ‘रस रत्नाकर’ में एक जगह पर रोचक वर्णन है जिसमें शालिवाहन और वट यक्षिणी के बीच हुए संवाद से पता चलता है कि उस काल में Sona banaya jata tha

प्रभुदेवा, व्यलाचार्य, इन्द्रद्युम्न, रत्नघोष, नागार्जुन के बारे में कहा जाता है कि ये paare Se Sona banane ki vidhi जानते थे। सन 1945 में वाराणसी के रहने वाले pandit Krishnapal Sharma ने दिल्ली के birla house में उस समय के सबसे पढ़े लिखे आदमियों के सामने लोगों को Sona bana कर दिखाया था

Sona kaise banate hain|Sona banane ki vidhi Hindi me

Ghar par Sona banane ke liye आपको निम्न सामग्रियों की जरूरत पड़ेगी।

500 ग्राम शुद्ध लोहा

500 ग्राम शुद्ध पीतल

500 ग्राम शुद्ध कांसा 

नीला थोथा २०० गराम

गंधक  २०० गराम

नमक २०० गराम

रस सिंदूर २०० गराम

कुमकुम २०० गराम 

100 ग्राम शुद्ध पारा 

१०० गराम शुद्ध शहद

500 ग्राम शुद्ध लोहा , 500 ग्राम शुद्ध पीतल , 500 ग्राम शुद्ध कांसा लेकर उसे अलग अलग पिघलाएं।पिघल जाने पर तीनों को मिश्रण करके एक कटोरे या कढ़ाई का रुप दे दें।कटोरा या कढ़ाई का रुप देने के लिए मिट्टी के बर्तन का ही उपयोग करें ।ध्यान रहे उस बर्तन में कहीं छेद ना हो।

तीनो धातु शुद्ध और बराबर मात्रा में हो।
बाजार से किसी विश्वसनीय पंसारी की दुकान से 200 ग्राम गंधक , 200 ग्राम नीलाथोथा , 200 ग्राम नमक , और 200 ग्राम कुमकुम, 200 ग्राम रस सिंदूर खरीदें।इसी प्रकार विश्वसनीय स्तर पर १०० ग्राम शुद्ध पारा और शहद भी खरीद लें l।

ध्यान रहे गंधक को सभी लोग जानते हैं। नीला थोथा नीले रंग का होता है या पूर्ण जहर होता है।

सभी सामग्री इकट्ठी करके गंधक नीला थोथा नमक रोलि अलग-अलग कूट-पीसकर आपस में मिला दे। अब ईसे  1 किलो स्वच्छ पानी में घोल दें।इसके बाद चूल्हा या स्टोव पर आग लगाए और और तीनों धातुओं वाले बने बर्तन में इस घोल को डालें।

उसे धीमी आंच पर पकाएं।जब पानी उबलने लगे तो सौ ग्राम पारे को रससिंदूर में अच्छी तरह घोटे।पारे का विष निकलकर साफ होता जाएगा। उस पारे की गोली बनाएं और उसके ऊपर शहद चिपोड दें।

फिर उसे खौलते पानी में सामग्रियों के बीच धीरे से रख दे।उसे धीमी आंच पर पकने दें।जब दो तिहाई भाग पानी जल जाए तो पारे के गोले पर ध्यान रखें वह गोला हल्का हल्का सुनहरा होता जाएगा। जब पूरी तरह से सुनहरा हो जाए तो बर्तन को नीचे उतार दें।इस तरह से आपका सोना अब बन चुका है। इसे श्रद्धा पूर्वक ग्रहण करें।

Sona Banane me savdhani

नीला थोथा जहर होता है इसे छूने के बाद हर बार हाथ जरूर साबुन से धोए 

गंधक भी जहर है 

सामग्री पकाते समय आख को किसी चश्मे से ढक ले। याद रखें पारे को आग पर गरम करने पर वह बहुत जल्दी उड जाता है। इसलिए यह प्रयोग किसी आयुर्वेदिक वेद्य,रसायन विज्ञान के ज्ञाता द्वारा ही करें।

नागार्जुन ने अपने समय में अलग-अलग विधि के द्वारा Sone ka nirman कर के पूरे विश्व को आश्चर्यचकित कर दिया था 

एक बात गौर करने वाली है कि भारत में पहले के जमाने में आखिर इतना Sona आता कहां से था शायद पहले सोना बनाया जाता था क्योंकि हिंदू धर्म ग्रंथ में हर चीज का साइंटिफिक तरीके से विश्लेषण किया गया है।

Tags:

sona banane ki vidhi YouTube
sona kaise banta hai in hindi
sona banane ki vidhi 720
nariyal se sona banane ki vidhi
tambe ko sona kaise banaye
jadi buti se sona banane ki vidhi YouTube
chandi kaise banti hai

sona kaise bhari hai

0 Comments