Polytechnic kya hai

भारत में 12वीं कक्षा पास करने के बाद से ही विद्यार्थियों के मन में अपने भविष्य को लेकर चिंताएं उभरने लगती है। विद्यार्थियों के साथ-साथ उनके माता-पिता भी इस बात से चिंतित होने लगते हैं कि अब विद्यार्थियों को ऐसा कौन सा कोर्स करवाया जाए जिससे उनके बच्चों का भविष्य संभल सके। 

आमतौर पर बारहवीं कक्षा के बाद ऐसे कई कोर्स है जिसे करके विद्यार्थी अपना अच्छा कैरियर बना सकते है।इसके अलावा कई विद्यार्थी अपना कैरियर बनाने के लिए पॉलिटेक्निक कोर्स का चुनाव करते हैं। अगर आप भी पॉलिटेक्निक के स्टूडेंट है या फिर पॉलिटेक्निक करने का सोच रहे हैं तो आज हम आपको पॉलिटेक्निक के बाद नौकरी, पॉलिटेक्निक करने के बाद क्या करें इत्यादि के बारे में संपूर्ण जानकारी विस्तार से देने वाले हैं, चलिए चलते हैं मुख्य मुद्दे पर।

पॉलिटेक्निक क्या है|What is Polytechnic 

पॉलिटेक्निक उस स्थान को कहते हैं जिसमें छात्रों को टेक्नोलॉजी के क्षेत्र में 3 साल का डिप्लोमा कोर्स करवाया जाता है। इस परीक्षा का आयोजन राज्य स्तर पर किया जाता है और जो विद्यार्थी इसमें सफल होता है उसे रैंक दी जाती है और उसी रैंक के आधार पर उस विद्यार्थी को कॉलेज में प्रवेश दिया जाता है।छात्रों को विभिन्न कोर्स में प्रवेश पॉलिटेक्निक की परीक्षा के द्वारा ही मिलता है। अगर आपको पॉलिटेक्निक का कोर्स करना है तो उसके लिए आपको 10वीं 12वीं और स्नातक होना अनिवार्य है।इस कोर्स में छात्र अपनी योग्यता के अनुसार एडमिशन प्राप्त कर सकते हैं। पॉलिटेक्निक कोर्स की अवधि 3 साल की होती है।

पॉलिटेक्निक हेतु शैक्षिक योग्यता|Educational Qualification for Polytechnic

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि पॉलिटेक्निक में अलग-अलग प्रकार के कोणों का संचालन किया जाता है और उनको रोको करने के लिए कम से कम हाईस्कूल और अधिक से अधिक स्नातक की पढ़ाई अनिवार्य है इन कोर्सों में आप अपनी योग्यता के अनुसार एडमिशन ले सकते हैं। पॉलिटेक्निक के कोर्स में प्रवेश पाने के लिए 20 साल से 25 साल तक की उम्र उपयुक्त मानी जाती है।

पॉलिटेक्निक के प्रमुख कोर्स|Major Polytechnic Courses

मकैनिकल इंजिनियरिंग

सिविल इंजिनियरिंग

ऑटोमोबाइल इंजिनियरिंग

पैकेजिंग टेक्नॉलजी

इलेक्ट्रिकल ऐंड इलेक्ट्रॉनिक्स इंजिनियरिंग

इलेक्ट्रॉनिक्स ऐंड कम्यूनिकेशन इंजिनियरिंग

अप्लाइड इलेक्ट्रॉनिक्स ऐंड इंस्ट्रूमेंटेशन

कंप्यूटर इंजिनियरिंग

इन्फर्मेशन टेक्नॉलजी

माइनिंग इंजिनियरिंग

मेटलॉर्जिकल इंजिनियरिंग

आर्किटेक्चर कोर्सेज

एयरक्राफ्ट मेंटिनेंस इंजिनियरिंग,

मास कम्यूनिकेशन

इंटीरियर डिजाइनिंग

टेक्सटाइल टेक्नॉलजी

केमिकल इंजिनियरिंग

केमिकल इंजिनियरिंग इन प्लास्टिक ऐंड पॉलिमर्स

पेट्रोकेमिकल्स इंजिनियरिंग

लेटर टेक्नॉलजी

प्रिटिंग टेक्नॉलजी

फुटवियर टेक्नॉलजी

होटल मैनेजमेंट

कमर्शल ऐंड फाइन आर्ट

मास कम्यूनिकेशन

इंटीरियर डिजाइन

ऑफिस मैनेजमेंट ऐंड कंप्यूटर ऐप्लिकेशन 

कंप्यूटर साइंस 

पॉलिटेक्निक कोर्स करने के फायदे|Benefits of doing a polytechnic course

इसका सबसे बड़ा फायदा यह है कि इसमें समय बहुत ही कम लगता है। ऐसे विद्यार्थी जो जल्दी नौकरी पाने की इच्छा रखते हैं उनके लिए पॉलिटेक्निक एक अच्छा ऑप्शन है।अगर आप सिर्फ डिग्री कोर्स करके ही नौकरी प्राप्त करना चाहते हैं तब भी आप पॉलिटेक्निक कर सकते हैं। इसके अलावा 
पोलीटेक्नीक करने के बाद आप सीधा डिग्री कोर्स में प्रवेश लेकर उसे पूरा कर सकते हैं।

12वीं के बाद अन्य कोर्स करने में जितने पैसे लगते हैं उससे कम पैसों में ही पॉलिटेक्निक का कोर्स हो जाता है क्योंकि इसकी फीस कम होती है और अगर आप सरकारी कॉलेज से इसका कोर्स कर रहे हैं तो आपकी फीस बहुत ही कम होती है।

पॉलिटेक्निक डिप्लोमा कोर्स करने का एक फायदा यह भी है कि आप इस कोर्स के बाद
डिग्री कोर्स भी कर सकते हैं।

पॉलिटेक्निक के क्षेत्र में सैलरी|Salary in Polytechnic Field

अगर आप पॉलिटेक्निक में डिप्लोमा कर लेते हैं तो इसके बाद आपको किसी भी कंपनी में फीचर के तौर पर महीने की पंद्रह से 18 हजार की नौकरी आराम से मिल जाएगी और जब आपका इस क्षेत्र में अनुभव बढ़ेगा तब आपकी सैलरी भी आपकी कंपनी द्वारा बढ़ा दी जाएगी।

उच्च शिक्षा में लाभ|Benifits in Higher education 

अगर आप पॉलिटेक्निक करने के बाद आगे की पढ़ाई करना चाहते हैं तो आप बी टेक का कोर्स कर सकते हैं।जो विद्यार्थी पॉलिटेक्निक की परीक्षा पास कर लेता है उसे बीटेक के कोर्स में दूसरे सेमेस्टर में एडमिशन मिल जाता है, जिसके कारण बी टेक का कोर्स करने की अवधि कम हो जाती है।

कोर्स चुनते समय रखें इन बातों का ध्यान|Keep these things in mind while choosing a course

जब आपको कोर्स का चयन करना हो तो इस बात का ख्याल अवश्य रखें कि आपको जिस कोर्स में और जिस क्षेत्र में इंटरेस्ट हो उसी के अनुरूप आप कोर्स का चुनाव करें क्योंकि अगर आपका किसी चीज में इंटरेस्ट नहीं होगा तो आप उसमें सफल नहीं हो पाएंगे और आपका समय भी बर्बाद होगा। किसी भी कोर्स का चयन करने से पहले उस कोर्स की अवधि, उसकी फीस, उसके सेमेस्टर तथा उसके सिलेबस से जुड़े हुए सभी प्रकार की जानकारी अवश्य पता करें।

पॉलिटेक्निक कॉलेज के प्रकार|Types of Polytechnic college 

पॉलिटेक्निक कॉलेज तीन प्रकार के होते हैं।

प्राइवेट पॉलिटेक्निक

सरकारी पॉलिटेक्निक 

महिला पॉलिटेक्निक

जैसा कि आप जानते हैं कि किसी भी कोर्स को अगर सरकारी कॉलेज से किया जाए तो उसकी फीस प्राइवेट कॉलेज से कम होती है। इसके अलावा सरकारी कॉलेज से कोर्स करने से हमें छात्रवृत्ति की भी सुविधा मिलती है। वहीं प्राइवेट कॉलेज में कोर्स की फीस बहुत ही ज्यादा होती है और प्राइवेट कॉलेज में स्कॉलरशिप मिलने की संभावना बहुत ही कम होती है। इसके अलावा कुछ कॉलेज ऐसे होते हैं जो महिलाओं के लिए ही होते हैं।उसमें सिर्फ महिलाओं को ही एडमिशन दिया जाता है।कॉलेज के अलावा कुछ स्कूल भी ऐसे हो गए हैं जिनमें महिलाओं को ही एडमिशन दिया जाने लगा है।

पॉलिटेक्निक के प्रमुख संस्थान|Main institute of Polytechnic College 

राजकीय पॉलिटेक्निक कॉलेज, लखनऊ 

राजकीय पॉलिटेक्निक कॉलेज, कानपुर और सरकार। G.B. पंत पॉलिटेक्निक, लखनऊ

राजकीय पॉलिटेक्निक कॉलेज, गाजियाबाद 

राजकीय पॉलिटेक्निक, गोरखपुर 

अनार देवी खंडेलवाल महिला पॉलिटेक्निक, मथुरा 

राजकीय पॉलिटेक्निक, बांदा 

राजकीय गर्ल्स पॉलिटेक्निक, लखनऊ 

कु. मायावती सरकार गर्ल्स पॉलिटेक्निक, बादलपुर




0 Comments