नर्स कैसे बने|नर्स बनने के लिए क्या करें

How To Be Nurse In Hindi Me: नर्स का काम काफी इज्जत वाला और सेवा भाव वाला होता है। नर्स अस्पतालों में जो मरीज भर्ती होते हैं, उनकी देखभाल करती है और किसी भी प्रकार की सर्जरी में डॉक्टर की सहायता करती है, परंतु एक झूठ यह भी है कि नर्स के पद पर सिर्फ महिला ही काम कर सकती हैं, पर ऐसा नहीं है। इस प्रोफेशन में काफी अच्छा स्कोप है और इसमें महिलाओं के अलावा पुरुष भी काम कर सकते हैं। यह बात तो सभी जानते हैं कि किसी भी अस्पताल में डॉक्टर के बाद सबसे अहम जिम्मेदारी नर्स की ही होती है, क्योंकि नर्स ही अस्पताल में भर्ती मरीजों की देखभाल 24 घंटे करती है।

हम आपकी जानकारी के लिए बता दें कि स्वास्थ्य विभाग एक ऐसा विभाग है, जो कभी बंद नहीं होगा, क्योंकि जब तक मनुष्य रहेगा तब तक उसे बीमारी भी होती रहेंगी और बीमारियों के इलाज के लिए अस्पताल की आवश्यकता भी पड़ेगी और जब वह अस्पताल में भर्ती होगा, तो नर्स की भी आवश्यकता पड़ेगी, इसलिए जो लोग नर्स बन कर अपना कैरियर बनाना चाहते हैं, उनके लिए यह बेहतर कैरियर विकल्प साबित हो सकता है। अगर आप भी नर्स बनना चाहते हैं या नर्स बनने की तैयारी कर रहे हैं,  तो हमारे आज के इस आर्टिकल को पूरा अवश्य पढ़ें क्योंकि आज के इस आर्टिकल में हम आपको इसके बारे में पूरी जानकारी देने वाले हैं।

नर्स बनने की प्रक्रिया|Nurse in Hindi Details 

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि नर्स बनने के लिए डिग्री और डिप्लोमा, अंडर ग्रेजुएट और सर्टिफिकेट जैसे अनेक प्रकार के कोर्स उपलब्ध है और इन कोर्सों में छात्र अपनी योग्यता और इंटरेस्ट के हिसाब से एडमिशन ले सकते हैं, आइए आगे अब हम आपको नर्सिंग से संबंधित कुछ कोर्सो के बारे में जानकारी देते हैं।

बीएससी नर्सिंग 

जीएनएम 

एएनएम 

जीएनएम और एएनएम का फुल फॉर्म|Fullform of GNM and ANM

जीएनएम का फुल फॉर्म होता है जनरल नर्सिंग एंड मिडवाइफरी, वही एएनएम का फुल फॉर्म होता है ऑक्सीलेरी नर्स मिडवाइफरी।

बीएससी नर्सिंग की जानकारी|Details of B.sc Nursing 

जो अभ्यर्थी बीएससी नर्सिंग का कोर्स करना चाहता है, उसे इस कोर्स को करने के लिए 12वीं कक्षा को 50% अंकों के साथ पास करना होगा और उसके 12वी कक्षा में फिजिक्स, केमिस्ट्री और बायोलॉजी विषय होने चाहिए। अगर हम इस कोर्स की फीस के बारे में बात करें, तो इस कोर्स की सरकारी कॉलेज में सालाना फीस लगभग ₹30000 होती है, वहीं प्राइवेट कॉलेज में इस कोर्स की सालाना फीस ₹100000 के आसपास होती है। सरकारी कॉलेज में फीस कम होने के कारण ज्यादातर लोग सरकारी कॉलेज में एडमिशन पाने की इच्छा रखते हैं।

- बीएससी नर्सिंग कोर्स के बाद नौकरी की संभावनाएं|Career after b.sc Nursing Course

जब आप बीएससी नर्सिंग के कोर्स को सफलतापूर्वक पास कर लेते हैं, तो उसके बाद आपको किसी भी अस्पताल में स्टाफ नर्स के पद पर नियुक्त किया जाता है और जब आप 2 या 3 साल का अनुभव प्राप्त कर लेते हैं, तो उसके बाद आपको वॉर्ड सिस्टर का पद अस्पताल द्वारा दिया जाता है।नर्सिंग का कोर्स करने के बाद आप अपनी इच्छा के अनुसार सरकारी अथवा प्राइवेट अस्पतालों में नौकरी के लिए आवेदन कर सकते हैं। इसके अलावा आप कम्युनिटी हेल्थ नर्स, स्पेशल क्लीनिक और केयर सेंटर,स्कूल हेल्थ नर्स, आर्मर्ड नर्स, इंडस्ट्रियल नर्स, ड्रग कंपनी और काउंसलिंग सेंटर में भी नौकरी पाने के लिए आवेदन दे सकते हैं। इसके साथ ही आप नर्सिंग कॉलेज में टीचर भी बन सकते हैं या फिर आप चाहें तो बीएससी नर्सिंग का कोर्स करने के बाद भारतीय सेना में नर्स के पद के लिए आवेदन दे सकते हैं। कहने का मतलब है कि नर्सिंग का कोर्स करने के बाद आपको नौकरी की तलाश में भटकना नहीं पड़ेगा।

- बीएससी नर्सिंग कोर्स का सिलेबस|Syllabus of b.sc Nursing 

एनाटॉमी, नागरिक शास्त्र,दाई का काम और प्रसूति नर्सिंग,दाई का काम और प्रसूति नर्सिंग,फिजियोलॉजी,औषध,लाइब्रेरी कार्य,सामुदायिक स्वास्थ्य नर्सिंग- IIपोषण,पैथोलॉजी और जेनेटिक्स,सह पाठ्यक्रम गतिविधियां,नर्सिंग रिसर्च एंड स्टेटिस्टिक्स,जीव रसायन,लाइब्रेरी कार्य,मेडिकल सर्जिकल नर्सिंग,नर्सिंग सर्विसेज और शिक्षा का प्रबंधन,हिंदी या क्षेत्रीय भाषा,सह पाठ्यक्रम गतिविधियां,बाल स्वास्थ्य नर्सिंग,लाइब्रेरी कार्य,लाइब्रेरी कार्य,मेडिकल सर्जिकल नर्सिंग,मानसिक स्वास्थ्य नर्सिंग,सह पाठ्यक्रम गतिविधियां,सह पाठ्यक्रम गतिविधि,सामुदायिक स्वास्थ्य नर्सिंग,दाई का काम और प्रसूति नर्सिंग,नर्सिंग फाउंडेशन,संचार और शैक्षिक प्रौद्योगिकी,मनोविज्ञान,नागरिक शास्त्र,कीटाणु-विज्ञान,औषध,कंप्यूटर का परिचय,पैथोलॉजी और जेनेटिक्स

जीएनएम की जानकारी|Details of GNM in Hindi me

जीएनएम का फुल फॉर्म होता है जनरल नर्सिंग एंड मिडवाइफरी। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि जीएनएम के कोर्स को महिला और पुरुष दोनों अभ्यर्थी कर सकते हैं तथा इस कोर्स को करने के लिए अभ्यर्थी को पीसीबी से 12वीं की परीक्षा पास करना जरूरी है तथा इसके अलावा अभ्यर्थी के अंग्रेजी विषय में कम से कम 40% अंक होना जरूरी है। इस कोर्स की अवधि 3 साल की होती है और जब आप इस कोर्स को सफलतापूर्वक पूरा कर लेते हैं, तो आपको आपकी संस्था की तरफ से रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट दिया जाता है, जिसे जीएनएम सर्टीफिकेट भी कहते हैं।जीएनएम का कोर्स सफलतापूर्वक पूरा करने के बाद आप सरकारी नौकरी के लिए एप्लीकेशन भर सकते हैं या फिर आप प्राइवेट हॉस्पिटल अथवा गवर्नमेंट इंस्टिट्यूट में संविदा पर भी नौकरी कर सकते हैं। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि जीएनएम कोर्स की सालाना फीस लगभग 30,000 होती है। यह सरकारी कॉलेज की फीस है।इसके अलावा अगर आप प्राइवेट कॉलेज से जीएनएम का कोर्स करते हैं, तो आप की सालाना फीस ₹100000 के आसपास तक हो सकती है।

- जीएनएम का सिलेबस|Syllabus of GNM 

जैविक विज्ञान,मेडिकल सर्जिकल नर्सिंग I,मिडवाइफरी और गायनोकोलॉजी नर्सिंग,शरीर रचना विज्ञान और शरीर विज्ञान,मेडिकल सर्जिकल नर्सिंग,सामुदायिक स्वास्थ्य नर्सिंग- II,कीटाणु-विज्ञान,औषध,बाल चिकित्सा नर्सिंग,व्यावहारिक विज्ञान,मेडिकल सर्जिकल नर्सिंग II,इंटर्नशिप अवधि,मनोविज्ञान,संचारी रोग,नर्सिंग शैक्षिक तरीके और मीडिया,नागरिक सास्त्र,आर्थोपेडिक नर्सिंग,अनुसंधान के लिए परिचय,नर्सिंग की बुनियादी बातें,कान, नाक और गला,व्यावसायिक रुझान और समायोजन,प्राथमिक चिकित्सा,कैंसर विज्ञान / त्वचा,प्रशासन और वार्ड प्रबंधन, व्यक्तिगत स्वच्छता,ऑप्थाल्मिक नर्सिंग,स्वास्थ्य अर्थशास्त्र,सामुदायिक स्वास्थ्य नर्सिंग,मानसिक स्वास्थ्य और मनोरोग नर्सिंग,मिडवाइफरी और गायनोकोलॉजी नर्सिंग,पर्यावरण स्वच्छता,मेडिकल सर्जिकल नर्सिंग I,सामुदायिक स्वास्थ्य नर्सिंग- II

एएनएम|Anm Course Details 

एएनएम का कोर्स करने के लिए विद्यार्थियों को दसवीं कक्षा का पास होना जरूरी है और इसके अलावा जो अभ्यर्थी एएनएम का कोर्स करना चाहता है, उसकी उम्र 17 साल से लेकर 35 साल के बीच होनी चाहिए।एएनएम की ट्रेनिंग पूरी करने के बाद अभ्यर्थी राज्य सरकार द्वारा चलाए जाने वाले हेल्थ केयर सेंटर या फिर अस्पताल में हेल्थ मॉनिटर के रूप में भर्ती हो सकते हैं। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि इस कोर्स की सरकारी कॉलेज की फीस 3-4 हजार रुपए और प्राइवेट कॉलेज की फीस ₹10000 के आसपास होती है।एएनएम का फुल फॉर्म होता है ऑक्सीलरी नर्स मिडवाइफ। यह एक डिप्लोमा कोर्स होता है और इस डिप्लोमा कोर्स में अभ्यर्थियों को रोगी के इलाज के दौरान इस्तेमाल होने वाले सामानों के रखरखाव और उनका उपयोग कैसे करना है, उसके बारे में जानकारी दी जाती है।आपकी जानकारी के लिए बता दें कि इस कोर्स के लिए सिर्फ लड़कियां ही आवेदन दे सकती हैं और इस कोर्स की समय अवधि 2 सालों की होती है।

- एएनएम का सिलेबस|Syllabus of Anm

सामुदायिक स्वास्थ्य नर्सिंग,प्राथमिक चिकित्सा,पोषण,प्राथमिक चिकित्सा देखभाल,पर्यावरण स्वच्छता,संचारी रोग,स्वच्छता,सामुदायिक स्वास्थ्य समस्याओ,संक्रमण और टीकाकरण,बाल स्वास्थ्य देखभाल,दाई का काम, स्वास्थ्य केंद्र प्रबंधन,मानसिक स्वास्थ्य

आर्मी में नर्स कैसे बने|How to be Nurse in Army

अगर आप आर्मी में नर्स का पद प्राप्त करना चाहते हैं, तो इसके लिए आपको अलग प्रक्रिया से गुजरना होगा। आर्मी में नर्स की नौकरी पाने के लिए आपको मिलट्री नर्सिंग सर्विस टेस्ट को पास करना होता है। यह टेस्ट आर्मी करवाती है। इस टेस्ट को पास करने के बाद आपका इंटरव्यू लिया जाता है और इंटरव्यू के प्रदर्शन के आधार पर रैंक बनाई जाती है और जिसकी रैंकिंग अच्छी होती है उसे आर्मी में नर्स की नौकरी दी जाती है।अगर आपके आर्मी में कोई रिश्तेदार या सगे संबंधी हैं, तो आपके सिलेक्शन होने के ज्यादा चांस होते हैं।

नर्स की सैलरी|Salary of Nurse in india

अगर हम नर्सिंग सेक्टर में सैलरी के बारे में बात करें, तो एक नर्स को शुरुआती सैलरी के रूप में 7 से लेकर ₹12000 मिलते हैं तथा जैसे-जैसे उनका अनुभव बढ़ता जाता है, वैसे वैसे ही उनकी सैलरी में बढ़ोतरी होती जाती है। जो सबसे अधिक एक्सपीरियंस वाली नर्स होती है, उसे महीने की सैलरी के रूप में ₹45000 तक की तनख्वाह भी मिलती है।
इसके अलावा नर्सों को पीएफ और ग्रेजुएटी का लाभ भी मिलता है, साथ ही इन्हें जीवन बीमा भी मिलता है।

नर्सिंग की तैयारी कैसे करें|Preparation of Nursing 

जैसा कि आप जानते हैं कि नर्सिंग कि फील्ड में विभिन्न प्रकार के कोर्स होते हैं।अगर हम इन कोर्सों के बारे में बात करें, तो नर्सिंग के क्षेत्र में डिप्लोमा, अंडर ग्रेजुएट और सर्टिफिकेट जैसे कोर्स होते हैं।इन सभी कोर्सो का सिलेबस और समय अलग-अलग होता है। अगर आप नर्सिंग में कैरियर बनाना चाहते हैं, तो इसके लिए आपको इनके कोर्सों की अच्छे से तैयारी करनी होगी। जैसे जीएनएम के कोर्स की समय अवधि 3 साल की होती है और तीनों सालों के सिलेबस अलग-अलग होते हैं, इसीलिए इसकी तैयारी करने के लिए इसके सिलेबस का अच्छे से अध्ययन करना चाहिए।

नर्सिंग कोर्स के बाद कैरियर|Career after Nursing course

नर्सिंग का कोर्स सफलतापूर्वक पूरा करने के बाद आपके पास नौकरी के कई रास्ते खुल जाते हैं। नर्सिंग का कोर्स पूरा करने के बाद आप किसी भी हॉस्पिटल में नर्स के पद के लिए आवेदन दे सकते हैं, फिर चाहे वह सरकारी हॉस्पिटल हो या प्राइवेट हॉस्पिटल है। इसके अलावा स्कूल या ओल्ड एज होम्स मे भी नर्स के पद के लिए आवेदन दे सकते हैं। इसके साथ ही हेल्थ से जुड़ी विभिन्न एनजीओ में भी आप नर्स के तौर पर काम कर सकते हैं। नीचे हमने नर्सिंग का कोर्स करने के बाद कुछ ऐसी फील्ड के नाम दिए हैं, जिसमें आप अपना कैरियर बना सकते हैं।

- गवर्नमेंट और प्राइवेट अस्पताल 

- नर्सिंग होम 

- क्लीनिक 

- स्कूल 

- ओल्ड एज होम 

- सरकारी अस्पताल 

- डिफेंस अस्पताल 

- रिसर्च सेंटर 

- मेडिकल लैबोरेट्री 

- ऐसे एनजीओ जो हेल्थ से जुड़े मुद्दे पर काम करते हैं।




0 Comments