वन अधिकारी कैसे बने | फारेस्ट ऑफिसर बनने के लिए क्या करे

वन अधिकारी कैसे बने: हमारे भारत देश में हर साल विभिन्न पदों के लिए भर्तियां निकाली जाती है, जिन्हें पाने के लिए पूरे भारत में करोड़ों लोग आवेदन देते हैं और उसमें से कुछ ही लोग सफल हो पाते हैं।

क्या आपने कभी सोचा है कि जब करोड़ों लोग आवेदन देते हैं, तो उसमें से कुछ ही लोग सफल क्यों हो पाते हैं अगर आपने नहीं सोचा है, तो हम आपकी जानकारी के लिए बता दें कि जो लोग सफल होते हैं, वह लोग उन पदों के लिए अच्छे से मेहनत करते हैं तभी वह उन पदों को प्राप्त कर पाते है

वैसे तो हमारे भारत देश में विभिन्न नौकरियां हैं, जिनमें विद्यार्थी वर्ग अपना इंटरेस्ट दिखाते हैं, जिनमें प्रमुख रूप से ias और ips की नौकरियां शामिल है परंतु इसके अलावा भी हमारे भारत में ऐसे कई पद हैं जो विद्यार्थियों के लिए एक Good Career विकल्प साबित हो सकते हैं।

उन्हीं में से एक पद है Van Adhikari का। वन अधिकारी एक सरकारी नौकरी होती है और इसमें आपको विभिन्न प्रकार के काम करने पड़ते हैं।अगर आप इंटरनेट पर यह सर्च करते रहते हैं कि वन अधिकारी अथवा Forest officer kaise bane तो, आज आप बिल्कुल सही जगह पर आए हैं।

क्योंकि आज के इस आर्टिकल में हम आपको Van Adhikari Kaise Bane इसके बारे में पूरी जानकारी देने वाले हैं।आज के इस आर्टिकल में आप जानेंगे कि वन अधिकारी बनने के लिए क्या करें, फॉरेस्ट ऑफिसर की सैलरी कितनी होती है।

वन अधिकारी को अंग्रेजी में क्या कहते हैं, फॉरेस्ट ऑफिसर कौन कौन से काम करता है, फॉरेस्ट ऑफिसर बनने के लिए कौन सी पढ़ाई करनी पड़ती है इत्यादि, तो चलिए ज्यादा देरी ना करते हुए चलते हैं मुख्य मुद्दे पर और जानते हैं कि Forest officer Banne ke Liye Kya Kare.


वन अधिकारी कैसे बने|फारेस्ट ऑफिसर बनने के लिए क्या करे
फारेस्ट ऑफिसर बनने के लिए आयु सीमा|Age to become Forest officer or van Adhikari 

हर परीक्षा की तरह ही इस परीक्षा में भारतीय संविधान में दिए गए आरक्षण को ध्यान में रखते हुए विभिन्न वर्गों के लोगों को उम्र सीमा में छूट दी गई है। 

इंडियन फारेस्ट ऑफिसर बनने के लिए सामान्य वर्ग के अभ्यर्थी कम से कम 21 साल और अधिक से अधिक 30 साल तक आवेदन कर सकते हैं।

इसके अलावा अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति के लोग को उम्र सीमा में 5 साल की छूट दी जाती है, साथ ही जो लोग ओबीसी यानी कि अन्य पिछड़ा वर्ग से संबंध रखते हैं उन्हें उम्र सीमा में 3 साल की छूट दी जाती है।

फॉरेस्ट ऑफिसर बनने के लिए फिजिकल फिटनेस|physical fitness to become Forest officer 

फॉरेस्ट ऑफिसर बनने के लिए पुरुष अभ्यर्थियों की लंबाई 163 सेंटीमीटर और उनके सीने की चौड़ाई 84 सेंटीमीटर होनी जरूरी है। इसके अलावा महिला अभ्यर्थियों की लंबाई 150 सेंटीमीटर होनी चाहिए।

फॉरेस्ट ऑफिसर बनने के लिए शैक्षिक योग्यता|Qualification To Become Forest officer or van Adhikari 

इंडियन फारेस्ट ऑफिसर बनने के लिए अभ्यर्थी के पास रसायन विज्ञान, वनस्पति विज्ञान, जीव विज्ञान, भूविज्ञान, गणित, भौतिकी, सांख्यिकी, पशु चिकित्सा विज्ञान और पशुपालन, इंजीनियरिंग में से किसी एक विषय की डिग्री होना जरूरी है।

इंडियन फारेस्ट सर्विस क्या होता है|What is indian Forest service in Hindi 

फॉरेस्ट ऑफिसर का चयन यूनियन पब्लिक सर्विस कमीशन के द्वारा करवाई जाने वाली सिविल सर्विस की परीक्षा के द्वारा होता है। 

जो Candidate UPSC के द्वारा करवाई जाने वाली फॉरेस्ट ऑफिसर की परीक्षा को सफलतापूर्वक पास कर लेता है और उसके अन्य सभी चरणों को भी पूर्ण कर लेता है, उसे इस पद पर नियुक्ति दी जाती है।

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि फॉरेस्ट ऑफिसर के पद को आईपीएस के पद के समान ही माना जाता है और जैसा कि हमने ऊपर बताया की फॉरेस्ट ऑफिसर का पद आईपीएस के समान ही होता है, इसीलिए फॉरेस्ट ऑफिसर बनने के लिए जो परीक्षा होती है वह काफी कठिन होती है।

इसलिए इस परीक्षा को पास करने के लिए विद्यार्थियों को फॉरेस्ट ऑफिसर की परीक्षा के पैटर्न, फॉरेस्ट ऑफिसर की परीक्षा के सिलेबस के बारे में पूरी जानकारी होना जरूरी होता है, तभी वह इस परीक्षा की अच्छे से तैयारी करके इस परीक्षा को पास कर पाएंगे।

तो अगर आप भी फॉरेस्ट ऑफिसर बनना चाहते हैं या फिर फॉरेस्ट ऑफिसर बनने के लिए परीक्षा की तैयारी कर रहे हैं, तो हमारे इस आर्टिकल को पूरा अवश्य पढ़ें क्योंकि आगे हम आपको फॉरेस्ट अफसर बनने के लिए आपके अंदर कौन-कौन सी योग्यता होनी चाहिए, उसके बारे में जानकारी प्रदान करने वाले हैं, आइए जानते हैं कि फॉरेस्ट ऑफिसर बनने के लिए कौन-कौन सी योग्यताएं आपके अंदर होनी चाहिए।

इंडियन फारेस्ट सर्विस ऑफिसर कैसे बने?

अगर आप भी ऐसे व्यक्तियों में से हैं, जो इंडियन फॉरेस्ट ऑफिसर बनना चाहते हैं, तो इसके लिए सबसे पहले आपको यह जानकारी होना बहुत ही जरूरी है कि, इंडियन फॉरेस्ट ऑफिसर बनने की जो परीक्षा होती है उसका आयोजन संघ लोक सेवा आयोग करवाता है।

जिसे इंग्लिश में यूनियन पब्लिक सर्विस कमीशन कहा जाता है अर्थात अगर आप इंडियन फॉरेस्ट ऑफिसर बनना चाहते हैं, तो आपको संघ लोक सेवा के द्वारा आयोजित करवाई जाने वाली परीक्षा को पास करना होगा और यह परीक्षा काफी कठिन होती है। इसलिए आपको इस परीक्षा की अच्छे से तैयारी करनी होगी और इसके सिलेबस को अच्छे से पढ़ना होगा।

जैसा कि हमने आपको बताया कि आजकल हमारे भारत देश में बेरोजगारी बढ़ती ही जा रही है और हमारे देश की जनसंख्या अधिक होने के कारण यहां पर बहुत कम नौकरियां हैं।

इसीलिए हर किसी के लिए नौकरी पाना संभव नहीं होता, जिसके कारण बहुत से लोग अपना धंधा या बिजनेस करते हैं, परंतु अगर आप सच्ची लगन से किसी नौकरी के लिए मेहनत करते हैं, तो आपको उसमें सफलता अवश्य मिलती है।

इसीलिए अगर आप फॉरेस्ट ऑफिसर बनना चाहते हैं, तो आपको इसके लिए कड़ी मेहनत करनी होगी। फॉरेस्ट ऑफिसर बनने के लिए आपको सबसे पहले यूनियन पब्लिक सर्विस कमीशन के द्वारा आयोजित करवाई जाने वाली परीक्षा में शामिल होना होता है और उस परीक्षा को सफलतापूर्वक पास करने के बाद आपका इंटरव्यू लिया जाता है।

हम सभी यह बात अच्छे तरीके से जानते हैं, कि किसी भी नौकरी को प्राप्त करने के लिए सबसे पहले हमें उस नौकरी के काबिल बनना होता है और हम उस नौकरी के काबिल है या नहीं, इसका निर्णय विभिन्न परीक्षाओं और इंटरव्यू के द्वारा लिया जाता है।

हर नौकरी के लिए परीक्षा का आयोजन और इंटरव्यू का आयोजन अलग अलग संस्था करती है, तो ऐसे में अगर आपको इंडियन फॉरेस्ट ऑफिसर बनना है, तो इसके लिए आपको टोटल तीन चरणों को पूरा करना होता है।

इसमें सबसे पहले आपकी प्राथमिक परीक्षा होती है फिर मुख्य परीक्षा होती है और सबसे आखरी में आपका इंटरव्यू लिया जाता है और अगर आप इन तीनों चरणों को सफलतापूर्वक पूरा कर लेते हैं, तो फिर आपको इंडियन फॉरेस्ट ऑफिसर के पद पर नियुक्ति दी जाती है और आपको किस क्षेत्र में अपनी नौकरी करनी है, उसके बारे में डाक द्वारा पोस्ट भेज कर बता दिया जाता है।

फॉरेस्ट ऑफिसर बनने के लिए प्रारंभिक परीक्षा|Preliminary exam of Forest officer 

इंडियन फॉरेस्ट ऑफिसर बनने के लिए सबसे पहले अभ्यर्थी को इसकी प्रारंभिक परीक्षा में शामिल होना होता है। प्रारंभिक परीक्षा में 1 दिन में टोटल 2 क्वेश्चन पेपर करवाए जाते हैं और इन दोनों क्वेश्चन पेपर में ऑब्जेक्टिव टाइप के प्रश्न पूछे जाते हैं तथा इन दोनों पेपर का पूर्णांक 200-200 अंकों का होता है।

और इन दोनों पेपरों को देने के लिए अभ्यर्थियों को यूनियन पब्लिक सर्विस कमीशन की तरफ से दो-दो घंटे का समय दिया जाता है। यह परीक्षा अभ्यर्थियों की क्वालिफिकेशन और उनकी क्षमता का आकलन करने के लिए करवाई जाती है।

इस परीक्षा का मुख्य उद्देश्य विद्यार्थियों की संख्या को कम करने और उन को फिल्टर करने का है अर्थात जो फालतू के विद्यार्थी होते हैं, वह इस परीक्षा को पास ही नहीं कर पाते और जो विद्यार्थी इस परीक्षा को पास कर लेते हैं वह फिर अगली परीक्षा में शामिल होते हैं। 

इस परीक्षा में विद्यार्थियों को जो भी अंक मिलते हैं, वह अंक उनकी फाइनल मेरिट लिस्ट में नहीं जोड़े जाते हैं बल्कि आपकी मुख्य परीक्षा और आपके इंटरव्यू के अंकों को ही मेरिट लिस्ट में जोड़ा जाता है और उसी के आधार पर आपको नियुक्ति दी जाती है।

इंडियन फारेस्ट सर्विस की प्रारंभिक परीक्षा के पहले पेपर का सिलेबस|Preliminary exam syllabus for Forest officer 

करंट अफेयर ऑफ नेशनल एंड इंटरनेशनल इंर्पोटेंस

जनरल साइंस

जनरल इश्यू इन एनवायरमेंटल इकोलॉजी

बायोडायवर्सिटी एंड टेंपरेचर क्लाइमेट चेंज

इंडियन एंड वर्ल्ड ज्योग्राफी (फिजिकल, सोशल)

इकोनामिक एंड टेंपरेचर 

जियोग्राफी ऑफ द वर्ल्ड 

इंडियन वर्ल्ड हिस्ट्री 

इकोनामिक एंड सोशल

हिस्ट्री ऑफ इंडिया एंड इंडियन नेशनल मूवमेंट 

इश्यू ऑन एनवायरमेंटल इकोलॉजी

इंडियन फारेस्ट सर्विस की प्रारंभिक परीक्षा के दूसरे पेपर का सिलेबस

लॉजिकल रीजनिंग 

कंप्रीहेंशन 

जनरल मेंटल एबिलिटी 

एनालिटिकल एबिलिटी 

प्रोबलम सॉल्विंग 

डिसीजन मेकिंग एबिलिटी 

इंटरपर्सनल स्किल्स 

कम्युनिकेशन स्किल 

डाटा इंटरप्रिटेशन

इंडियन फारेस्ट ऑफिसर बनने के लिए मुख्य परीक्षा

फॉरेस्ट ऑफिसर बनने के लिए इस परीक्षा को पास करना बहुत ही जरूरी होता है। यह परीक्षा सभी अभ्यर्थियों के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण होती है। यह टोटल 1700 अंकों की होती है, जिसमें से आपको 1400 नंबर लिखित परीक्षा में और बाकी के 300 नंबर आपको पर्सनैलिटी टेस्ट के लिए प्रदान किए जाते हैं।

इस परीक्षा में अभ्यर्थियों को टोटल 6 पेपर देने होते हैं और अभ्यर्थियों को इन सभी छह पेपर को पास करना जरूरी होता है।आइए इन पेपरों के बारे में जानते हैं।

मुख्य परीक्षा में सबसे पहला पेपर अंग्रेजी का होता है और यह पेपर टोटल 300 अंकों का होता है तथा इस पेपर में अभ्यर्थियों से जनरल इंग्लिश से संबंधित सवाल पूछे जाते हैं। 

इसके बाद दूसरा पेपर जनरल नॉलेज का होता है, जिसमें सामान्य ज्ञान से संबंधित क्वेश्चन पूछे जाते हैं और यह पेपर भी टोटल 300 अंकों का होता है। 

इसके बाद तीसरा पेपर एक ऑप्शनल विषय का होता है, जिसमें टोटल 8 क्वेश्चन होते हैं। यह क्वेश्चन पेपर टोटल दो भागों में बटा हुआ होता है, जिसमें पार्ट ए में 4 क्वेश्चन होते हैं तथा पार्ट बी में चार क्वेश्चन होते हैं और यह पेपर टोटल 200 अंकों का होता है।

इसका चौथा क्वेश्चन पेपर भी एक ऑप्शनल सब्जेक्ट का होता है और इसमें भी आपको अपनी मर्जी से चुने हुए विषय का पेपर देना होता है।

यह पेपर भी टोटल 200 नंबरों का होता है। इसके अलावा आप का पांचवा और सबसे आखरी वाला पेपर भी ऑप्शनल विषय का होता है और इन दोनों पेपर का पूर्णांक 200 अंकों का होता है।

इंडियन फॉरेस्ट ऑफिसर बनने के लिए ऑप्शनल विषय की लिस्ट|Optional Subject of Van Adhikari 

एग्रीकल्चर 

एग्रीकल्चर इंजीनियरिंग 

जियोलॉजी 

केमिकल इंजीनियरिंग 

फॉरेस्ट्री 

सिविल इंजीनियरिंग 

जूलॉजी 

स्टैटिक्स 

फिजिक्स 

केमेस्ट्री 

बोटेनी 

मैथमेटिक्स 

मैकेनिकल इंजीनियरिंग

फॉरेस्ट ऑफिसर की परीक्षा का पाठ्यक्रम|Syllabus of Forest officer in Hindi 

कृषि विज्ञान

पशुपालन और पशु चिकित्सा विज्ञान

रसायन विज्ञान

गणित और सांख्यिकी

असैनिक अभियंत्रण

इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग

भारतीय इतिहास

मैकेनिकल इंजीनियरिंग

भौतिक विज्ञान

राजनीति विज्ञान

मनोविज्ञान

सार्वजनिक प्रशासनाणी विज्ञान

फॉरेस्ट ऑफिसर बनने के लिए इंटरव्यू|Interview of Van Adhikari 

जब अभ्यार्थी फॉरेस्ट ऑफिसर की प्रारंभिक परीक्षा और मुख्य परीक्षा को सफलतापूर्वक पास कर लेता है, तो उसे सबसे आखरी में इंटरव्यू के लिए बुलाया जाता है। 

इंटरव्यू में अभ्यर्थी से विभिन्न तरह के प्रश्न पूछे जाते हैं और अगर अभ्यर्थी इस इंटरव्यू को सफलतापूर्वक पास कर लेता है, तो फिर उसे इंडियन फॉरेस्ट ऑफिसर के पद पर नियुक्त करने के लिए योग्य मान लिया जाता है।

इसके बाद उसे ट्रेनिंग के लिए भेजा जाता है और ट्रेनिंग पूरी होने पर उसे इंडियन फॉरेस्ट ऑफिसर के पद पर नियुक्ति पत्र दे दिया जाता है। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि फॉरेस्ट ऑफिसर की ट्रेनिंग के दरमियान अभ्यर्थी को सैलरी भी मिलती है।

फॉरेस्ट ऑफिसर की सैलरी|Salary of Forest officer in india

जैसा कि आप जानते हैं कि फॉरेस्ट ऑफिसर की नौकरी एक सरकारी नौकरी होती है और सरकारी नौकरी में अधिकतर सैलरी ज्यादा ही होती है। 

अगर हम फॉरेस्ट ऑफिसर की सैलरी के बारे में बात करें तो इनकी महीने की सैलरी 60000 से लेकर 70000 के आसपास होती है।इसके अलावा भी इन्हें अन्य सरकारी लाभ मिलते हैं, साथ ही फॉरेस्ट ऑफिसर को पीएफ तथा ग्रेजुएटी का लाभ भी मिलता है।

फॉरेस्ट ऑफिसर का काम|Works of Forest officer in Hindi 

जब अभ्यर्थी फॉरेस्ट ऑफिसर के पद पर नियुक्ति पा जाता है, तो फिर उसे जंगलों के लिए विभिन्न प्रकार के काम करने पड़ते हैं। एक फॉरेस्ट ऑफिसर उसके एरिया में आने वाले जंगलों का संरक्षण करता है और समय-समय पर जंगलों का सर्वे भी करता है।

इसके अलावा फॉरेस्ट ऑफिसर जंगल में जंगल से संबंधित अन्य बातों का ख्याल भी रखता है। जैसा कि आपने अक्सर फिल्मों में देखा होगा कि अधिकतर लकड़ी चोर जंगलों से सागौन और चंदन की लकड़ी चोरी करते हैं।

ऐसे में फॉरेस्ट ऑफिसर इन लकड़ीयो की चोरी होने से रोकता है और अगर कोई अपराधी जंगल से अवैधरूप से लकड़ियां चोरी करता है, तो फॉरेस्ट ऑफिसर लोकल पुलिस की मदद से उन अपराधियों को पकड़ कर अदालत के सामने पेश करता है।

हमारी भारत सरकार ने जंगलों की सुरक्षा के लिए विभिन्न प्रकार के कानून बनवाए हैं जिसका पालन करवाने की जिम्मेदारी फॉरेस्ट ऑफिसर के ऊपर होती है।

इसके साथ ही फॉरेस्ट ऑफिसर जंगलों में अवैध रूप से शिकार करने वाले शिकारियों को पकड़कर अदालत के सामने पेश करता है और अदालत उन्हें सजा सुनाती है। फॉरेस्ट ऑफिसर जंगलों में जानवरों का शिकार होने से रोकता है।

इसके अलावा एक फॉरेस्ट ऑफिसर अपने आसपास के एरिया के लोगों को जंगलों के प्रति और पर्यावरण के प्रति जागरूक करने का प्रयास करता है और उन्हें पेड़ों की कटाई ना करने के लिए तथा नए पौधे लगाने के लिए उत्साहित करता है।

फॉरेस्ट ऑफिसर की एग्जाम की तैयारी कैसे करें|Van Adhikari ki exam ki Tayyari kaise kare 

फॉरेस्ट ऑफिसर का पद प्राप्त करने के लिए सबसे पहले तो आपको इसके लिए आयोजित होने वाली परीक्षा के सिलेबस के बारे में जानकारी होना अति आवश्यक है, कयोंकि जब आपको किसी भी परीक्षा के सिलेबस के बारे में जानकारी होती है, तब आप अच्छे तरीके से अपनी तैयारी कर पाते हैं 

कयोंकि आपको यह पता रहता है कि परीक्षा में किस विषय से संबंधित कितने सवाल पूछे जाते हैं। वह सवाल किस तरह के होते हैं। रेलवे परीक्षा सिलेबस के बारे में जानकारी प्राप्त करने के लिए आप इंटरनेट का सहारा ले सकते हैं।

इसके अलावा आप तैयारी करने के लिए एक टाइम टेबल का निर्माण अवश्य करें क्योंकि टाइम टेबल बनाने से आपको यह फायदा होता है कि आपको इस बात की जानकारी रहती है, कि आपको कौन से दिन किस विषय का अध्ययन करना है।

इसके अलावा आप इस बात का भी ध्यान रखें कि, आप जिस भी विषय में कमजोर है उस विषय पर आपको अधिक ध्यान देना है।

सप्ताह में एक बार आपने जो भी पढा है, उसका रिवीजन अवश्य करें, वरना हो सकता है कि आप परीक्षा आते-आते आपने जो भी पढ़ा है, वह भूल जाएं।

इस परीक्षा में जनरल नॉलेज और करंट अफेयर से जुड़े सवाल अधिक आते हैं, इसीलिए आपको इन विषय के बारे में जानकारी होनी चाहिए।आप सामान्य ज्ञान के लिए बाजार में मिलने वाले किताबों का इस्तेमाल कर सकते हैं और करंट अफेयर के लिए आप रोजाना अखबारों तथा टीवी चैनलों को देख सकते हैं।

इस परीक्षा को पास करने के लिए आपसे भारतीय संस्कृति, भूगोल, भारतीय इतिहास, भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन, भारतीय राजनीति और संविधान, भारतीय अर्थव्यवस्था, पर्यावरण से जुड़े मुद्दे, विश्व से जुड़े मसले, खेल, सामान्य विज्ञान एवं तकनीकी विकास से जुड़े सवाल पूछे जा सकते हैं। इन पर खास तौर पर ध्यान दें।

अगर आपको लगता है कि आप बिना किसी कोचिंग के इस परीक्षा को पास नहीं कर पाएंगे, तो आप अपने घर के आस-पास स्थित किसी अच्छे कोचिंग इंस्टिट्यूट को ज्वाइन कर सकते हैं।

इसके अलावा आप चाहे तो ऑनलाइन वीडियो प्लेटफॉर्म यूट्यूब का सहारा भी इस परीक्षा की तैयारी करने के लिए कर सकते हैं। कयोंकि आज यूट्यूब पर एजुकेशन से संबंधित ऐसे कई चैनल है, जो ना सिर्फ रेलवे जूनियर इंजीनियर के पदों के लिए बल्कि अन्य पदों के लिए भी तैयारियां करवाते हैं।
 

0 Comments